बैसाखी त्यौहार कि पूरी जानकारी Baisakhi Festival Information In Hindi

Baisakhi Festival Information In Hindi हॅलो ! इस पोस्ट में हम बैसाखी त्यौहार के बारे में जानकारी लेने वाले हैं । बैसाखी सिख समुदाय के लोगों द्वारा मनाया जाने वाला मुख्य त्यौहार है । बैसाखी को वैसाखी नाम से भी जाना जाता है । यह त्यौहार हर साल 13 या 14 अप्रैल को मनाया जाता हैं । यह त्यौहार सिख लोगों के लिए नये साल की शुरुआत का प्रतीक है और इसके अलावा यह त्यौहार फसलों के पकने के उपलक्ष्य में भी मनाया जाता हैं । भारत के अलावा दूनिया के अन्य क्षेत्रों में भी बैसाखी त्यौहार मनाया जाता हैं । इस दिन को बहोत शुभ माना जाता हैं । सिख लोग यह त्यौहार बहोत धुमधाम से मनाते हैं ।

Baisakhi Festival Information In Hindi

बैसाखी त्यौहार कि पूरी जानकारी Baisakhi Festival Information In Hindi

बैसाखी त्यौहार क्यों मनाया जाता हैं –

बैसाखी त्यौहार सिख धर्म की स्थापना और फसल पकने के प्रतीक के रूप में मनाया जाता हैं । इस महिने में फसल काटने की शुरुआत होती हैं । 13 अप्रैल 1699 के दिन सिख पंथ के 10 वें गुरु श्री गुरु गोबिंद सिंह जी ने खालसा पंथ की स्थापना की थी । इसलिए इस दिन से बैसाखी त्यौहार मनाने की शुरूआत हो गई । इस दिन से पंजाबी नये साल की शुरुआत होती हैं ।

बैसाखी त्यौहार कैसे मनाया जाता हैं –

बैसाखी त्यौहार भारत के अलावा दूनिया में कई जगहों पर धुमधाम से मनाया जाता हैं । इस दिन गुरूद्वारों को पूरी तरह से रोशनी और फूलों से सजाया जाता हैं । लोग बैसाखी के दिन पवित्र गीत गाते हैं । इस दिन लोग प्रार्थना करते हैं । इस दिन किर्तन और जुलूसों का आयोजन भी किया जाता हैं । इस दिन लोग नये कपड़े पहनते हैं ।

इस दिन मेलों का आयोजन भी किया जाता हैं । इस दिन लोग पटाखे फोड़ते हैं । इस दिन लोग गुरूद्वारा जाने से पहले आसपास की नदी या झीलों में डुबकी लेते हैं और इसके बाद गुरूद्वारे में दर्शन करने के लिए जाते हैं । इस दिन बहोत लोग अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में जाते हैं । इस गुरूद्वारे को सिख धर्म के लोग बहोत ही शुभ मानते हैं । इस दिन भांगड़ा और गिद्दा नृत्य किया जाता हैं ।

शाम के समय लोग आग के पास इकट्ठा होकर नये साल की खुशिया मनाते हैं । यह त्यौहार भारत में अलग अलग नामों से जाना जाता हैं । बैसाखी को असम में बिहू , बंगाल में ‘ पोइला बैसाख ‘ , केरल में पूरन विशु , तमिलनाडु में पुथांडू , बिहार और नेपाल में सत्तू संक्रांती इन नामों से जाना जाता हैं ।

बैसाखी त्यौहार का महत्व –

बैसाखी यह सिख लोगों का मुख्य त्यौहार है । मूल रूप से बैसाखी हिंदू त्यौहार है । इस दिन को बहोत शुभ माना जाता है । हिंदू धर्म के लोग बैसाखी को नववर्ष के रूप में मनाते हैं । इस दिन हिंदू लोग गंगा नदी में स्नान करना पवित्र मानते हैं । बैसाखी का दिन बहोत ही शुभ माना जाता है क्योंकी इस दिन आकाश में विशाखा नक्षत्र होता हैं ।

किस राज्य में बैसाखी कैसे मनाई जाती हैं –

1 ) केरल –

केरल में बैसाखी त्यौहार धूमधाम से मनाया जाता हैं ।‌ केरल में बैसाखी को विषु नाम से भी जाना जाता हैं । इस दिन केरल के लोग भगवान विष्णु के मंदिर जाकर नया साल अच्छा होने के लिए प्रार्थना करते हैं । इस दिन केरल के लोग भगवान श्रीकृष्ण की भी पूजा करते हैं । इस दिन केरल में धान के फसल की बुवाई शुरू होती हैं । इस दिन केरल के लोग भगवान को विशेष भोग लगाते हैं । केरल में इस दिन कुछ जगहों पर पटाखे भी फोड़े जाते हैं । इस दिन केरल की महिलाएं पारंपरिक कसुवु साड़ी और पुरुष धोती पहनते हैं ।‌

2 ) असम –

असम में बैसाखी को बिहू नाम से जाना जाता हैं । असम के लोग बिहू त्यौहार को नये साल की शुरुआत मानते हैं । इस दिन असम में पारंपारिक नृत्य किये जाते हैं और पकवान बनाये जाते हैं । इस त्यौहार पर असम के लोग एक दूसरे को शुभकामनाएं देते हैं । असम में माघ बिहू , बोहाग बिहू , कोंगाली बिहू इस तरह बिहू साल में तीन बार मनाया जाता हैं ।

3 ) बिहार –

बिहार में बैसाखी को जूड़ शीतल नाम से जाना जाता हैं । जुड़ शीतल का अर्थ होता हैं की आपका जीवन शीतलता से भरा रहे । इस दिन बिहार में देवी – देवता की पूजा के बाद ब्राम्हणों को भोजन कराया जाता हैं । बिहार में इस त्यौहार पर फल , सब्जी और अनाज भी दान किये जाते हैं । इस दिन किचड एक दूसरे के शरीर पर लगाया जाता हैं और कुस्ती खेल का आयोजन होता हैं ।

4 ) बंगाल –

बंगाल में बैसाखी के त्यौहार को पोइला बोइशाख नाम से जाना जाता हैं ।‌ त्यौहार के पहले दिन घर में साफ – सफाई की जाती हैं और लोग नये कपड़े पहनकर पूजा करते हैं । इस दिन लोग घर में अच्छे पकवान बनाते हैं और एक दूसरे को बधाई देते हैं । बंगाल में लोग इस दिन मंदिर में जाकर भगवान के दर्शन करते हैं और लोगों का आशीर्वाद लेते हैं । इस दिन बंगाली लोग एक दूसरे को गले मिलते हैं और ‘ शुभो नोबो बोरसो ‘ कहकर शुभकामनाएं देते हैं । इस दिन बंगाल में गौमाता की भी पूजा की जाती हैं ।‌

5 ) पंजाब –

बैसाखी त्यौहार पंजाब में धुमधाम से मनाया जाता हैं । इस दिन पंजाब में लोग भांगड़ा नृत्य करते हैं । इस दिन पंजाब में अनाज की पूजा की जाती हैं । इस दिन लोग सुबह जल्दी उठकर गुरूद्वारे जाते हैं । इस दिन लोग एक दूसरे को शुभकामनाएं देते हैं । इस दिन गुरूद्वारे सजाये जाते हैं । इस दिन शाम को घरों के बाहर लोग लकडी़या जलाते हैं । लोग आग के आजू-बाजू में इकट्ठा होते हैं और उत्सव मनाते हैं।

इस पोस्ट में हमने बैसाखी त्यौहार के बारे में जानकारी ली । हमारी पोस्ट शेयर जरुर किजीए । धन्यवाद !

यह लेख अवश्य पढ़े –

Leave a Comment