नवरात्री त्यौहार कि पूरी जानकारी Navratri Information In Hindi

नवरात्री हिंदू लोगों का प्रमुख त्यौहार हैं । नवरात्री यह एक संस्कृत शब्द हैं । इसका अर्थ हैं नौ रात्री । यह त्यौहार नौ रात्री मनाया जाता हैं । दसवें दिन दशहरा होता हैं । नवरात्री का त्यौहार चैत्र , आषाढ़ , अश्विन और माघ इस तरह साल में चार बार आता हैं । नवरात्री के नौ दिन दूर्गा माता के नौ रूपों की पूजा की जाती हैं ।

Navratri Information In Hindi

नवरात्री त्यौहार कि पूरी जानकारी Navratri Information In Hindi

नवरात्री को पवित्रता , दिव्यता और शक्ती का प्रतीक माना जाता हैं । चैत्र माह हिंदू नववर्ष का पहला माह होता हैं । चैत्र माह के नवरात्री के पहले दिन को हिंदू नववर्ष का पहला दिन माना जाता हैं । अश्विन माह की नवरात्री सितंबर या अक्टूबर महिने में आती हैं । आषाढ मास की नवरात्री जून या जुलाई माह में आती हैं । माघ माह की नवरात्री जनवरी या फरवरी महिने में आती हैं । ज्यादा से ज्यादा अश्विन माह की नवरात्री बहोत धुमधाम से मनाई जाती हैं । नवरात्री का त्यौहार बहोत भक्ती से मनाया जाने वाला त्यौहार हैं । दूनिया भर में लोग इन नौ दिनों में दूर्गा माता के नौ रूपों की पूजा करते हैं ।

नवरात्री का त्यौहार क्यों मनाया जाता हैं –

1 ) पौराणिक कथाओं के अनुसार , महिषासुर नाम का एक राक्षस था । महिषासुर राक्षस ने ब्रम्हा जी को प्रसन्न किया था और ब्रम्हा जी से वरदान मांगा । महिषासुर राक्षस ने ब्रम्हा जी से ऐसा वरदान मांगा की दुनिया में कोई भी देव , दानव या मनुष्य कभी उसका वध नहीं कर पाये । ब्रम्हा जी ने महिषासुर राक्षस को यह वरदान मांगने के बाद महिषासुर राक्षस आतंक मचाने लगा । उसके आतंक से त्रस्त होकर माता दूर्गा के नौ रूपों का जन्म हुआ । माता दूर्गा और महिषासुर राक्षस के बीच नौ दिनों तक युद्ध चला और दसवें दिन माता दूर्गा ने महिषासुर राक्षस का वध किया ।

2 ) कथा के अनुसार , भगवान राम ने रावण की लंका पर आक्रमण करने से पहले माता भगवती की आराधना की थी । रामेश्वरम में भगवान राम में नौ दिन माता का पूजन किया था । माता भगवान राम के भक्ती से प्रसन्न हो गई और माता ने भगवान राम को जीत का आशीर्वाद दिया । नौ दिनों के बाद दसवे दिन भगवान राम ने रावण को हराकर लंका पर विजय प्राप्त की थी ।‌ इस दिन को विजयादशमी के रूप में मनाया जाता हैं ।

नवरात्री का त्यौहार कैसे मनाया जाता हैं –

नवरात्री त्यौहार बहोत धुमधाम से मनाया जाता हैं । नवरात्री के पहले दिन घटस्थापना होती हैं । घटस्थापना के दिन घट को ईशान कोण में स्थापित किया जाता है । इसमें मिट्टी औश्र जौ डाले जाते है । इसमें पानी छिड़का जाता हैं ।घट पर रोली या चंदन से स्वास्तिक बनाया जाता हैं । एक तांबे के कलश में जल भरकर उसके उपर पत्ते रखे जाते हैं पत्तों के बीच एक नारीयल रखा जाता हैं ।

इसके बाद घट और कलश की पूजा करके प्रसाद रखा जाता हैं । इसके पास एक देवी की मूर्ति को विराजमान किया जाता हैं । नौ दिन हररोज पुजा की जाती हैं । नौ दिन देवी की पूजा और आरती की जाती हैं । हवन भी आयोजित किये जाते हैं । रात के समय में गरबा का आयोजन किया जाता हैं । इसके अलावा नृत्य , संगीत और अन्य प्रतियोगिता भी आयोजित की जाती हैं । इस तरह। नवरात्री का त्यौहार बहोत उत्साह से मनाया जाता हैं ।

नवरात्री का त्यौहार किस राज्य में कैसे मनाया जाता हैं –

1 ) महाराष्ट्र –

महाराष्ट्र में नवरात्री त्यौहार उत्साह से मनाया जाता हैं । महाराष्ट्र में नवरात्री के पहले दिन घटस्थापना होती हैं और देवी की मूर्ती को बिठाया जाता हैं । नौ दिन देवी की पूजा और आरती की जाती हैं । रात के समय में गरबा और दांडिया आयोजित की जाती हैं । लोग खुली जगह पर गरबा और दांडीया खेलते हैं । इसके अलावा रात के समय में नृत्य , संगीत , नाटक ,खेल प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता हैं । नौ दिनों के बाद दशमी को देवी के मुर्ती को नदी या तालाब में विसर्जित किया जाता हैं ।

2 ) गुजरात –

गुजरात में नवरात्री प्रसिद्ध त्यौहार हैं । गुजरात में गरबा और दांडिया‌ देखने के लिए अच्छे होते हैं । गुजरात में अहमदाबाद , बडौदा , पाटन , सूरत , गांधीनगर यह जगह नवरात्री का त्यौहार देखने के लिए अच्छी होती हैं । गुजरात के अहमदाबाद में मिर्ची राॅक एन ढोल यह गरबा और दांडिया नाइट का कार्यक्रम आयोजित किया जाता हैं । इसमें बहोत लोग हिस्सा लेते हैं । गुजरात में माॅं शक्ति गरबा यह गुजरात में होने वाले भव्य कार्यक्रमों में से एक हैं । इसे विश्व का सबसे बड़ा गरबा इवेंट कहा जाता हैं ।

3) पश्चिम बंगाल –

पश्चिम बंगाल में नवरात्री को दूर्गा पूजा कहा जाता हैं । कोलकाता में नवरात्री के दिनों में दूर्गा माता के महिषासुर मर्दिनी स्वरुप की पूजा की जाती हैं । देवी के हाथ में त्रिशूल होता हैं और चरणों में महिषासुर नाम का राक्षस होता हैं । देवी के पीछे उनका वाहन शेर भी होता हैं । कोलकाता में संध्या आरती भी बहोत अच्छी होती है । लोग बहोत दूर से आरती के लिए आते हैं । बंगाल में सिंदूर खेला , धुनुची नृत्य , कुमारी पूजा , दो पूजा , चोखूदान यह कार्यक्रम भी होते है ।

4 ) केरल –

केरल में नवरात्री का त्यौहार आखिरी के तीन दिनों के लिए मनाया जाता हैं । केरल में विजयादशमी के दिन छोटे बच्चों को बड़े लोग मदद करके चावल के थाली में अक्षर लिखवाकर लेते हैं । इसे विद्यारंभ के नाम से भी जाना जाता हैं । केरल के लोग अपने किताब सरस्वती माता के चरणों में रखकर उनकी पूजा करते हैं । केरल में यह बहोत शुभ माना जाता हैं ‌।

5 ) उत्तरप्रदेश –

उत्तरप्रदेश में नवरात्री में देवी की मूर्ति को स्थापित किया जाता हैं । नौ दिन देवी की मूर्ति की पूजा और आरती की जाती हैं । इस त्यौहार पर उत्तरप्रदेश में रामलीला का आयोजन किया जाता हैं । इसमें भगवान राम द्वारा रावण का वध किया जाता हैं । नौ दिनों के बाद रावण , मेघनाद और कुंभकर्ण के पुतले जलाए जाते हैं । इसे असत्य पर सत्य की विजय के रूप में मनाया जाता हैं ।

यह लेख अवश्य पढ़े –

Leave a Comment