नागालैंड राज्य की पूरी जानकारी Nagaland Information In Hindi

Nagaland Information In Hindi नागालैंड भारत का उत्तर पूर्वी राज्य हैं । नागालैंड की राजधानी कोहिमा हैं । नागालैंड का सबसे बड़ा शहर दीमापुर हैं । नागालैंड में 12 जिले हैं । नागालैंड का क्षेत्रफल 16,579 वर्ग किमी हैं । क्षेत्रफल के अनुसार नागालैंड भारत का 26 वां राज्य हैं । नागालैंड की जनसंख्या 1,980,602 हैं । जनसंख्या के अनुसार नागालैंड भारत का 25 वां राज्य हैं । नागालैंड का साक्षरता दर 80.11% हैं । साक्षरता के अनुसार नागालैंड भारत का 15 वां राज्य हैं । नागालैंड की राजभाषा अंग्रेजी हैं ।

Nagaland Information In Hindi

नागालैंड राज्य की पूरी जानकारी Nagaland Information In Hindi

नागालैंड का भूगोल –

नागालैंड का क्षेत्रफल 16,579 वर्ग किमी हैं । धनसिरी , दोयांग , दिखू , झांझी यह नागालैंड की प्रमुख नदीयां हैं । नागालैंड के पश्चिम और उत्तर में असम , उत्तर में अरुणाचल प्रदेश , दक्षिण में मणिपूर और पूर्व में म्यांमार हैं ।

इस राज्य में नागा हिल्स हैं । नागालैंड की सबसे ऊंची चोटी सारामती हैं । इसकी ऊंचाई 12,600 फूट हैं । राज्य में ज्यादा से ज्यादा पहाड़ीयां हैं ।

नागालैंड का आहार –

नागालैंड का प्रमुख भोजन चावल , मांस , मछली और चटनी हैं । नागालैंड के लोग कुत्ता , सुअर , सांप , मेंढक इनका मांस खाते हैं । नागालैंड के लोगों को समथू नाम का व्यंजन भी बहोत पसंद होता है ।

एकिबे यह व्यंजन भी नागालैंड में पसंद होता हैं । इसके अलावा नागालैंड के लोगों को अकिनी , हिंकेजवु , अमरूसू , अनीशी , जुथो यह व्यंजन भी पसंद होते हैं ।

नागालैंड के त्यौहार –

1 ) हाॅर्नबिल फेस्टिवल –

यह त्यौहार नागालैंड में 10 दिनों के लिए मनाया जाता हैं । यह त्यौहार 1 दिसंबर से 10 दिसंबर के बीच मनाया जाता हैं । इस त्यौहार का उद्देश्य नागालैंड की संस्कृती की रक्षा करना और बढ़ावा देना हैं । इस त्यौहार का नाम हाॅर्नबिल पक्षी के नाम पर रखा गया हैं ।

इस त्यौहार में नृत्य, बहुसांस्कृतिक कला , राॅक काॅन्सर्ट थंपिंग , नाइट बाजार इनका समावेश होता हैं। इसके अलावा आप इस त्यौहार में पारंपारिक चित्र , शाॅल , लकड़ी की नक्षी वाली वस्तुएं खरीद सकते हैं ।

2 ) आंगमोंग फेस्टिवल –

यह त्यौहार 6 दिनों तक मनाया जाता हैं । यह त्यौहार संगरम जनजाती में मनाया जाता हैं । यह त्यौहार एकता और भाईचारे की भावना को बढ़ावा देने के लिए होता हैं । यह त्यौहार अच्छी फसल के लिए भी होता हैं ।‌ इस दिन देवताओं की पूजा की जाती हैं और अच्छी फसल , समृद्धी और स्वास्थ्य के लिए चिमनी के पास तीन खाना पकाने के पत्थर लगाते हैं ।

3 ) तोखू इमोंग उत्सव –

यह उत्सव 9 दिनों के लिए मनाया जाता हैं। यह त्यौहार आदिवासी लोग बहोत उत्साह से मनाते हैं। इस त्यौहार पर पकवान बनाए जाते हैं । यह त्यौहार फसल के मौसम के अंत के बाद उसे चिन्हित करने के लिए मनाया जाता हैं ।‌ यह त्यौहार नवंबर माह के‌ सातवे दिन मनाया जाता हैं । इस दिन लोग गायन और नृत्य भी करते हैं।

4 ) नाक्युलेम –

यह त्यौहार मस्ती से भरा हुआ होता हैं । यह त्यौहार जुलाई महिने में आयोजित किया जाता हैं । इस उत्सव में नृत्य , गायन और रोमांचक खेल होते हैं ।‌ इस त्यौहार में हाई जंप , लाॅन्ग जंप , कुक्ड – पोर्क को मुंह में पकड़ना ऐसे खेल होते हैं।‌ इसके अलावा महिलाओं के द्वारा ‘ कोंगखिम ‘ नाम का एक वाद्य बजाया जाता हैं ।

5 ) आओलांग –

यह त्यौहार फसल कटाई के अवश्यक‌ त्योहारों में से एक हैं ।‌ यह त्यौहार नागालैंड के कोन्याक जनजाती‌ के लोगों द्वारा मनाया जाता हैं । यह त्यौहार अप्रैल महिने में मनाया जाता हैं ।‌ यह त्यौहार पांच दिनों का होता हैं ।‌ इस त्यौहार में नृत्य और गायन भी होते हैं ।‌

नागालैंड के पर्यटन स्थल –

1 ) कोहिमा –

कोहिमा नागालैंड की राजधानी हैं । कोहिमा में कोहिमा झू हैं। इसमें आप जंगली भैंस , सुनहरा लंगूर जैसे प्राणी और पक्षी देखने को मिलते हैं ।‌ कोहिमा में कोहिमा बोटैनिकल गार्डन भी हैं ।

इसमें आप बहोत प्रकार के फूल देख सकते हो । इसके अलावा कोहिमा में कोहिमा संग्रहालय , तौफेमा गाॅंव , शीलोई झील , खोनोमा गांव , कोहिमा कैथेड्रल यह जगह भी देखने के लिए हैं ।

2 ) मोकोकचुंग –

मोकोकचुंग नागालैंड का एक जिला हैं । मोकोकचुंग के लोंगखुम में हथकरघा और हस्तशिल्प की कलाकृतियां देखने को मिलती हैं। इधर का टाउन मेन पार्क भी लोकप्रिय हैं । इसके अलावा मोकोकचुंग में लंग्पांगकांग , चुचुइइमलांग , मोपुंगचुकिर यह जगह भी देखने जैसी हैं ।

3 ) दीमापुर –

दीमापुर में झरने और हरी – भरी जगहों जैसी बहुत जगह देखने के लिए हैं । दीमापुर का ग्रीन‌ पार्क पर्यटकों कों पसंद हैं । इसमें रेस्टाॅरंट हैं। इसके अलावा आप इधर बोट रायडिंग भी कर सकते हो । दीमापुर में रंग पहाड़ रीजर्व फाॅरेस्ट हैं ।

इसमें औषधी पौधे हैं ।‌ इसके अलावा हिरण , चीतल , भालू , जंगली बकरी जैसे प्राणी भी हैं ।‌‌इसके अलावा दिमापुर में ट्रिपल फाॅल्स , नागालैंड जूलाॅजिकल पार्क , हाॅंगकाॅंग मार्केट दिमापुर ऐसी जगह भी देखने के लिए हैं ।

4 ) खोनोमा गांव –

नागालैंड के कोहिमा शहर से 20 किलोमीटर की दूरी पर खोनोमा गांव हैं । इस गांव में बहोत हरियाली हैं । इस गाव‌ को भारत के पहले ग्रीन विलेज के नाम से भी जाना जाता हैं । इस गांव में सीढ़ीदार खेती भी की जाती हैं ।

इसके लिए यह ज्यादा प्रसिद्ध हैं । खोनोमा गांव में 100 से ज्यादा जनजाती के पशु और पक्षी देखने को मिलते हैं । इसके अलावा इस गांव के जंगलों में 84 प्रकार के फल और 116 प्रकार की सब्जियां हैं ।

5 ) तुएनसांग –

तुएनसांग के नोकलाक गांव में त्यौहार बहोत उत्साह से मनाये जाते हैं । इसलिए यह गांव प्रसिद्ध हैं। इसके अलावा इधर पर्वतमाला का अद्भुत दृश्य भी देखने को मिलता हैं। तुएनसांग हस्तशिल्प और हथकरघा के लिए लोकप्रिय हैं ।

तुएनसांग में 6 पत्थर हैं । ऐसे माना जाता हैं की यह पवित्र देवताओं का प्रतिनिधित्व करते हैं । इन्हें भगवान के रूप में पहचाना जाता हैं । इसके अलावा तुएनसांग में चांगसांग मोंगको , लोंगट्रोक , त्सदांग यह जगह भी घुमने के लिए हैं

यह भी जरुर पढ़े :-

नागालैंड में कौन सी भाषा बोली जाती है?

अंगामी

नागालैंड में कैसे कपड़े पहने जाते हैं?

नागालैंड की वेशभूषा में विभिन्न प्रकार के शॉल शामिल हैं। सामान्य रूप से महिलाएं सादे नीले कपड़े में और एक सफेद कपड़े में बँधी होती हैं, जिसमें काले रंग की सीमांत पट्टियाँ होती हैं। महिलाएं अक्सर पुरुषों के परिधान पहनती हैं।

नागालैंड का मुख्य व्यवसाय क्या है?

कृषि प्रधान अर्थव्यवस्था


नागालैंड में कितने जिले हैं?

16

Leave a Comment