मेघालय राज्य की पूरी जानकारी Meghalaya Information In Hindi

Meghalaya Information In Hindi मेघालय पूर्वोत्तर भारत का एक राज्य हैं । मेघालय का क्षेत्रफल 22429 वर्ग किलोमीटर हैं ।‌ मेघालय में 11 जिले हैं । मेघालय की राजधानी शिलांग हैं । 2011‌ की जनगणना के अनुसार मेघालय की कुल आबादी 29,66,889 हैं । मेघालय शब्द का अर्थ ‘ बादलों का घर ‘ हैं । सोमेश्वरी , दिगारू , कोपिली , भोगाई , जादुकाता राज्य की प्रमुख नदीयां हैं ।

Meghalaya Information In Hindi

मेघालय राज्य की पूरी जानकारी Meghalaya Information In Hindi

बांग्लादेश और असम से मेघालय की सीमा जुड़ी हुई हैं । मेघालय अपने पहाड़ों , चोटिया , झरने और गुफाओं के लिए प्रसिद्ध हैं । मेघालय का क्षेत्रफल 22429 वर्ग किलोमीटर फैला हुआ हैं । मेघालय के दक्षिण में बांग्लादेश हैं और उत्तर में ब्रम्हपुर घाटी हैं । मेघालय का सबसे उंचा स्थान शिलांग शिखर हैं ।

मेघालय की भाषा –

मेघालय राज्य की आधिकारिक और सर्वाधिक ज्यादा बोले जाने वाली भाषा अंग्रेजी हैं । मेघालय में खासी , गारो , हजोंग , बियार यह भाषा भी बोली जाती हैं ।

मेघालय की अर्थव्यवस्था –

मेघालय की अर्थव्यवस्था कृषी आधारित अर्थव्यवस्था हैं । मेघालय में टमाटर , चाय , काजू , मशरूम , तिलहन , गेहूं , चावल की खेती की जाती हैं ।‌ राज्य में इलेक्ट्राॅनिक्स संबंधी लघुउद्योग हैं । मेघालय में कोयला , केओलिन , चूना – पत्थर , स्फटिक , अभ्रक , बाॅक्साइट जैसे खनिज पाए जाते हैं । भारत को ज्यादा से ज्यादा सिलीमेनाइट मेघालय से ही प्राप्त होता हैं ।

मेघालय का खाना –

मेघालय के लोगों का मुख्य भोजन चावल , मांस और मछली हैं । इधर के लोगों को मांसाहार ज्यादा पसंद हैं । मेघालय के खासी समुदाय का जाडो यह लोकप्रिय पकवान हैं । यह चावल और मीट से बनाया जाता हैं ।

इसके अलावा डोह खलीह , डोह नियांग , नाखम बीची , नालडा नाखम , नाखम बोरिंग , बेलती चटनी , मिनिल सोंगा यह व्यंजन भी मेघालय के लोगों को पसंद होते हैं ।
मेघालय की कला और संस्कृती –

मेघालय नृत्यों का निवास स्थान हैं । इनके ज्यादा से ज्यादा नृत्य धार्मिक , सामाजिक और कृषी संबंधी होते हैं । शाद इयंती , शाद थामा , शाद नग , शाद लखमी , तुहाली , सिम्पत कबा , लुरमासी यह मेघालय के नृत्य हैं । मेघालय में हस्तशिल्प खरीदने के लिए सबसे अच्छी जगह शिलांग हैं । शिलांग का पुलिस बाजार हस्तशिल्प खरिदने के लिए लोकप्रिय हैं ।

मेघालय के उत्सव –

1 ) शाद सुक मायनसीम –

यह त्यौहार शिलांग में वसंत ऋतु में मनाया जाता हैं । यूवा लड़के और लड़कियां पारंपरिक वस्त्र पहनकर लोकनृत्य करते हैं ।

2 ) वंगाला –

यह मेघालय के गारो जनजाती का मुख्य त्यौहार हैं । यह त्यौहार फसल के मौसम के बाद मनाया जाता हैं । ‘ सजलोंग ‘ नामक सूर्य – देवता फसल के आधिदेवता माने जाते हैं । इस त्यौहार में इनका सम्मान किया जाता हैं ।

3 ) शाद बे सियर –

इस त्यौहार में पुरुष लोग जंगलों में घुमते हैं और हिरणों की शिकार करते हैं । एक या दो हिरन मरने के बाद यह स्थानीय उत्सव बन जाता हैं ।

4 ) बेहदीनखलम उत्सव –

यह उत्सव मेघालय के पनार जनजाती द्वारा मनाया जाता हैं ।‌ यह त्यौहार बहोत प्रसिद्ध हैं । यह त्यौहार साल में तीन दिन मनाया जाता हैं । यह त्यौहार जोवाई कस्बे में मनाया जाता हैं ।

मेघालय के पर्यटन स्थल –

1 ) शिलांग –

शिलांग मेघालय की राजधानी हैं । यह एक हिल स्टेशन हैं । शिलांग के झरनों से मन को शांति मिलती हैं । शिलांग का एलिफेंट फाॅल्स देखने के लिए अच्छा हैं । शिलांग पीक शिलांग का सबसे उंचा स्थान हैं । इधर भारतीय वायु सेना का रडार स्टेशन भी हैं ।

शिलांग में डाॅन बाॅस्को संग्रहालय भी देखने के लिए अच्छा हैं इधर स्वदेशी लेख और कलाकृतियां देखने के लिए मिलती हैं । शिलांग का पुलिस बाजार व्यंजनों के लिए , हस्तशिल्प और कपड़े खरीदने के लिए लोकप्रिय हैं ।

2 ) चेरापूंजी –

चेरापूंजी को ‘ सोहरा ‘ नाम से भी जाना जाता हैं । इधर के पर्यटन स्थल पुरे भारत में प्रसिद्ध हैं । नोहकलिकाई वाॅटरफाॅल देश के सुंदर और बड़े झरनों में से एक हैं । इधर का इको पार्क पर्यटकों के लिए आकर्षण हैं । इधर से आप सिलहट जिले के मैदानी दृश्यों का आनंद ले सकते हैं ।

3 ) डाॅकी –

डाॅकी मेघालय के जयंतिया हिल्स जिले में स्थित हैं ।‌‌इधर के उमंगोट नदी पर नाव की सवारी की प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता हैं । इधर बहोत लोग नाव की सवारी देखने के लिए आते हैं । यह जगह पर्यटकों के लिए बहोत ही अच्छी हैं ।

4 ) उमियम लेक –

यह लेक शिलांग से 15 किमी के दूरी पर स्थित हैं । यह बोटिंग , वाॅटर साइकिलिंग , स्कूटिंग , कायॅकिंग के लिए लोकप्रिय हैं । इसके तर पर नेहरू पार्क हैं । यह लेक मानवनिर्मित हैं । इसे बारापानी झील भी कहा जाता हैं ।‌

5 ) डबल डेकर लिविंग रूट ब्रिज –

यह ब्रीज लगभग 50 मीटर लंबा हैं । यह ब्रीज 1.5 मीटर चौड़ा हैं । इस ब्रीज के नीचे से उमशियांग नदी बहती हैं । इस पूल में दो डेक यानी दो परते हैं ।‌ यह परते जड़ों के उलझाव के कारण बनी हैं ।

इस पुल को बनाने के लिए किसी भी धातु का इस्तेमाल नहीं किया हैं । यह सिर्फ पेड़ों की जड़ों से बनाया गया हैं ।

6 ) जवाई शहर –

जवाई शहर यह पर्यटन की जगह जयंतिया हिल्स में स्थित हैं । इस जगह पर पर्यटकों को आकर्षित करने वाले सुंदर नजारे हैं । इस जगह के थडलास्केन झील और लालोंग पार्क प्रसिद्ध पर्यटन स्थल हैं ।

जोवाई में सिन्तू कसीअर नाम का एक पर्यटन स्थल हैं जो एक विशाल भुमी हैं । यह म्यटडू नदी पर स्थित हैं । पिकनिक के लिये यह जगह अच्छी मानी जाती हैं ।

7 ) तुरा –

यह एक पहाड़ी शहर हैं । यह गारो हिल्स जिलें में स्थित हैं ।‌ इधर पेलगदारे , रोंगबैगदरे , गंडक नाम के बहोत प्रसिद्ध झरने हैं । इस जगह पर नोकरेक नॅशनल पार्क हैं यह इस शहर का मुख्य आकर्षण हैं यहा बहोत पशु और पक्षी देखने को मिलते हैं ।

8 ) मावसई गुफा –

यह मेघालय के सबसे ऐतिहासिक गुफा में से एक गुफा हैं । यह गुफा चुना पत्थर की हैं । यह एक अद्भुत और रहस्यमयी गुफा हैं । यह गुफा 150 मीटर की हैं । इस गुफा में जीव और वनस्पती पाए जाते हैं ।

9 ) कैलांग राॅक –

यह जगह मेघालय के मुख्य पर्यटन स्थलों में से एक हैं । यहां बहोत पर्यटक आते हैं । यह एक लाल पत्थर से बनी असाधारण विशाल चट्टान हैं । यह मेघालय के पश्चिम खासी पहाड़ियों में स्थित हैं ।

यह भी जरुर पढ़े :-

Leave a Comment