लोहड़ी त्यौहार पूरी जानकारी Lohri Information In Hindi

Lohri Information In Hindi लोहड़ी भारत के प्रसिद्ध त्यौहारों में से एक त्यौहार हैं । यह त्यौहार पंजाब राज्य का सबसे लोकप्रिय त्यौहार हैं । पंजाब के लोगों द्वारा यह त्यौहार हर साल मनाया जाता हैं । यह त्यौहार पंजाब के अलावा हरियाणा, उत्तरप्रदेश , राजस्थान , उत्तराखंड , गुजरात , जम्मू और कश्मीर इन राज्यों में भी मनाया जाता हैं । लोहड़ी को किसानों का नया साल भी माना जाता हैं । यह त्यौहार हिंदू कैलेंडर के अनुसार पौष या माघ महिने में मनाया जाता हैं । लोग लोहड़ी का त्यौहार खुशी और उत्साह से मनाते हैं ।

Lohri Information In Hindi

लोहड़ी त्यौहार पूरी जानकारी Lohri Information In Hindi

लोहड़ी त्यौहार कैसे मनाया जाता हैं –

लोहड़ी त्यौहार बहोत धुमधाम से मनाया जाता हैं । लोहड़ी त्यौहार के कुछ दिन पहले ही छोटे बच्चे तैयारी करने लगते हैं । लोहड़ी के त्यौहार के लिए लकड़ी , रेवड़ी , मूंगफली , मेवा जैसे सामग्री को इकट्ठा करते हैं । लोहड़ी के त्यौहार के दिन लोग शाम को इकट्ठा होते हैं और आग जलाते हैं ।

लोग आग के चारों तरफ नाचते हैं और गाने गाते हैं । लोग आग में रेवड़ी , मूंगफली , पाॅपकाॅर्न , मक्के के दानों को डालते हैं । आग के चारों तरफ लोग बैठते हैं और रेवड़ी , मक्का , तिल , पाॅपकाॅर्न खाते हैं । इस तरह से लोहड़ी का त्यौहार उत्साह से मनाया जाता हैं ।

लोहड़ी का इतिहास –

राजा अकबर के समय में एक डाकू था ।‌ यह डाकू अमीरों के घरों से चोरी करता था और गरीबों में बांटता था । वह गरीब लोगों की मदद करता था । इसने बहोत लडकीयों के जीवन भी बचाये थे और उनको दहेज देने में भी मदद की थी । उसके महान कार्यों के लिए लोहड़ी का त्यौहार मनाया जाने लगा । यह त्यौहार सूर्य देवता और आग को समर्पित हैं ।

किस राज्य में लोहड़ी कैसे मनाते हैं –

1 ) महाराष्ट्र –

महाराष्ट्र में लोहड़ी का त्यौहार मकरसंक्रांती के रूप में मनाया जाता हैं । इस दिन महाराष्ट्र में तिलगुळ बनाते हैं। लोग एक दूसरे को तिलगुळ देते हैं । लोगों को तिलगुळ देते समय वाणी में मधुरता की कामना की जाती हैं । इस दिन दान किया जाता हैं । इस दिन विवाहित महिला कपास , नमक , गुड़ , तिल , तेल यह चीज़ें सुहागन महिलाओं को दान करती हैं ।

2 ) उत्तरप्रदेश –

उत्तरप्रदेश में लोहड़ी त्यौहार को दान के पर्व के रूप में जाना जाता हैं । उत्तरप्रदेश में यह त्यौहार 14 जनवरी को मनाया जाता हैं । ऐसी मान्यता हैं की 14 जनवरी से अच्छे दिनों की शुरुआत होती हैं और शुभ कार्य किए जा सकते हैं । उत्तरप्रदेश में इस दिन गंगा घाटों पर मेलों का आयोजन किया जाता हैं । उत्तरप्रदेश में इस दिन स्नान के बाद दान देते हैं । उत्तरप्रदेश में इस दिन पतंग उडाये जाते हैं । इस दिन उत्तरप्रदेश में आसमान में पतंग नजर आते हैं ।

3 ) राजस्थान –

राजस्थान में इस त्यौहार को मकरसंक्रांती के रूप में मनाया जाता हैं । राजस्थान में यह त्यौहार सुहागन महिलाओं के लिए विशेष होता हैं । इस दिन राजस्थान की सुहागन महिला अपने सास को मिठाई और फल देती हैं और आशीर्वाद लेती हैं । इस दिन महिलाएं 14 सौभग्यसूचक वस्तु का पूजन करके ब्राम्हणों को दान‌ करती हैं ।

4 ) आंध्रप्रदेश –

आंध्रप्रदेश में इस दिन घर रंगोली से सजाये जाते हैं और पतंग उड़ाई जाती हैं । इस त्यौहार पर आंध्रप्रदेश में सांड और मूर्गों की लड़ाई होती हैं । यह त्यौहार तीन दिन का होता हैं और भोगी से शुरू होता हैं । इस दिन लोग घरों से गंदगी निकालते हैं और सड़क पर इकट्ठा करके जलाते हैं । आंध्रप्रदेश में इस दिन जानवरों को सजाया जाता हैं और जानवरों की रेस लगाई जाती हैं । आंध्रप्रदेश में इस दिन पोंगली नाम का व्यंजन बनाया जाता हैं । इसे दूध में चावल मिलाकर बनाया जाता हैं ।‌

5 ) उत्तराखंड –

उत्तराखंड में इस दिन लोग स्नान करते हैं ।‌ लोग इस दिन तिल के मिष्ठान जैसे खाने का सामान ब्राम्हणों को और पूज्य व्यक्तियों को दान करते हैं और उनका आशीर्वाद लेते हैं । उत्तराखंड में इस दिन मेले लगाये जाते हैं ।

6 ) गुजरात –

गुजरात में इस त्यौहार को उत्तरायण नाम से जाना जाता हैं । इस दिन गुजरात में पतंग उड़ाये जाते हैं । गुजरात के लोग इस दिन को शुभ मानते हैं । इस लिए गुजरात के दिन इस दिन को शुभ कार्य की शुरूआत करते हैं ।

7 ) बिहार –

बिहार में इस दिन को खिचड़ी नाम से जाना जाता हैं । इस दिन लोग गंगा स्नान करते हैं । गंगा स्नान करने के बाद लोग दान करते हैं । गुजरात में चावल , उड़द की दाल , तिल , ऊनी वस्त्र दान किये जाते हैं । इस दिन लोग घर में खिचड़ी बनाते हैं ।

8 ) पंजाब और हरियाणा –

पंजाब और हरियाणा में 14 जनवरी की पूर्व संध्या को लोग खुले स्थान पर आग जलाते हैं , परिक्रमा करते हैं और रेवडी और अन्य दानों को भेट देते हैं । लोग आग के चारों और नाचते हैं गाने भी गाते हैं । लोग पाॅपकाॅर्न , मूंगफली , चिक्की और रेवड़ी खाते हैं ।

9 ) तमिलनाडु –

तमिलनाडु में लोग इस त्यौहार को पोंगल के रूप में मनाते हैं । तमिलनाडु में यह त्यौहार चार दिनों के लिए मनाया जाता हैं । इन चार दिनों को भोगी पोंगल , सूर्य पोंगल , केनू पोंगल , कन्या पोंगल इन नामों से जाना जाता हैं । पोंगल में सबसे पहले स्नान करके खुले आंगन में मिट्टी के बर्तन में खीर बनाते हैं । इसे पोंगल कहा जाता हैं । इसके बाद सूर्य देवता की पूजा करके खीर को प्रसाद के रूप में खाया जाता हैं ।

10 ) जम्मू और कश्मीर –

जम्मू और कश्मीर में लोहड़ी का त्यौहार मूख्य रूप से रात में मनाया जाता हैं । इस त्यौहार में मिठाई , मुरमुरे और पाॅपकाॅर्न को आग की लपटों में फेंका जाता हैं । इस दिन आग की पूजा की जाती है । इस दिन जम्मू और कश्मीर के लोग घरों में और मंदिरों में हवन करते हैं । इस दिन लोग पारंपारिक गीत और नृत्य करते हैं ।

यह लेख अवश्य पढ़े –

Leave a Comment