झारखंड राज्य की पूरी जानकारी Jharkhand Information In Hindi

Jharkhand Information In Hindi झारखंड भारत का एक राज्य हैं । झारखंड की राजधानी राॅंची हैं । झारखंड का क्षेत्रफल 79,714 वर्ग किमी हैं । झारखंड की जनसंख्या 3,29,88,134 हैं । झारखंड का सबसे बड़ा शहर जमशेदपुर हैं । झारखंड में 24 जिले हैं । झारखंड की राजभाषा हिंदी हैं । झारखंड खनिज संपदा से परिपूर्ण हैं । झारखंड को ‘ रत्नागर्भाभूमी ‘ और ‘ भारत का रूर ‘ भी कहा जाता हैं ।

Jharkhand Information In Hindi

झारखंड राज्य की पूरी जानकारी Jharkhand Information In Hindi

झारखंड का राजकीय पशु हाथी हैं। झारखंड का राजकीय पक्षी कोयल हैं । झारखंड की स्थापना 15 नवंबर 2000 को बिहार को विभाजित करके की गयी । झारखंड में बहोत झरने हैं इसलिए इसे झरनों का शहर भी बोला जाता हैं ।

झारखंड का भूगोल –

झारखंड का क्षेत्रफल 79,714 वर्ग किमी हैं । झारखंड में बहोत खनिज पाये जाते हैं । इस राज्य का आकार चतुर्भुजाकार हैं । इस राज्य में वन भी बहोत हैं । क्षेत्रफल की दृष्टी से झारखंड भारत का 15 वा राज्य हैं ।

झारखंड के उत्तर में बिहार , दक्षिण में ओडिशा , पूर्व में पश्चिम बंगाल और पश्चिम में उत्तर प्रदेश हैं । गंगा , खरकाई , स्वर्णरेखा यह झारखंड की प्रमुख नदीयाॅं हैं ।

झारखंड का आहार –

झारखंड का मुख्य भोजन चावल , कंद , दाल , सब्जी हैं । इधर के लोगों को चिल्का रोटी भी बहोत पसंद होती हैं । यह चावल का आटा और बेसन का उपयोग करके तैयार की जाती हैं । लिट्टी चोखा भी इधर के लोगों को बहोत पसंद होता हैं ।

यह पापड़ और दही के साथ खाया जाता है । रुगरा भी बहोत स्वादिष्ट होता है । इसका स्वाद मशरूम की तरह होता हैं । धुस्का भी इधर के लोगों में बहोत लोकप्रिय हैं । इसे चावल और दाल के साथ घोला जाता हैं और इसके बाद तला जाता हैं ।

झारखंड की अर्थव्यवस्था –

झारखंड के ज्यादा से ज्यादा लोग कृषी पर निर्भर हैं । चावल झारखंड की प्रमुख फसल हैं । झारखंड दुनिया के सबसे अमीर खनिज क्षेत्रों मे से एक हैं ।

झारखंड में कोयला , लोह अयस्क , तांबा अयस्क , बाॅक्साइट , यूरेनियम , अभ्रक , चूना पत्थर , ग्रेनाइट , ग्रेफाइट , चांदी पाये जाते हैं । झारखंड एक ऐसा राज्य है जिधर कोकिंग कोल , पाइराइट , यूरेनियम का उत्पादन होता हैं ।

झारखंड के त्यौहार –

1 ) सरहुल –

यह आदिवासी लोगों का सबसे बड़ा त्यौहार हैं । यह त्यौहार खेती के काम शुरू होने से पहले मनाया जाता हैं । मुख्यत : यह फूलों का त्यौहार हैं । यह त्यौहार चार दिनों तक मनाया जाता हैं ।

यह त्यौहार जहा मनाया जाता हैं वहां नृत्य किये जाते हैं । महिलाएं सफेद और लाल साडी पहनती हैं । सफेद रंग पवित्रता और शालीनता का प्रतीक हैं और लाल रंग संघर्ष का प्रतीक हैं ।

2 ) करमा –

‌‌करमा त्यौहार लगायी हुई फसल अच्छी हो इसके लिए मनाया जाता हैं । यह त्यौहार ज्यादा से ज्यादा कुंवारी लड़कियां मनाती हैं । इस दिन बहनें अपने भाइयों के सुरक्षा के लिए उपवास रखती हैं ।

इस त्यौहार के कुछ दिन पहले लड़कियां नदी और तालाब से बालू उठाती हैं और डालीं में भरती हैं । इसमें सात प्रकार के अनाज डालते हैं , जैसे की , गेंहू , धान , मकई , उरद , कुलथी , चना , जौ आदि और स्वच्छ जगह पर रखती हैं ।

दुसरे दिन से रोज धूप – धवन द्वारा पूजा- अर्चना की जाती हैं । गोलाकार आकार में एक – दूसरे के हाथ पकड़कर गीत गाती हैं और नृत्य करती हैं । पूजा के दिन लड़कीयां नये वस्त्र पेहेनती हैं । सभी लोग नृत्य करते हुए उत्सव मनाते हैं । गीत भी गाते हैं ।

3 ) धानबुनी –

यह त्यौहार धान बुआई के शुभारंभ के रुप में मनाया जाता हैं । इस दिन किसान नए वस्त्र पेहेनते हैं और बांस की टोकरी में धान बोतते हैं । यह त्यौहार आदिवासी और सदान में मनाया जाता हैं ।

4 ) सोहराय त्यौहार –

सोहराय आदिवासी लोगों का त्यौहार हैं । इसे पशु उत्सव भी कहते हैं । यह त्यौहार पांच दिन का होता हैं । त्यौहार के दिन आदिवासी लोग अपने घरों में सजावट करते हैं और अपने गाय बैल को सजाकर तैयार करते हैं । यह त्यौहार फसल कटाई के बाद मनाया जाता हैं । यह त्यौहार पशुओं के प्रति आभार और स्नेह व्यक्त करने का दिन हैं ।

5 ) सेंदरा –

यह त्यौहार बैसाख पूर्णिमा में मनाया जाता हैं । इस दिन आदिवासी लोग धनुष बनाकर उसे लेकर जंगल में शिकार करने जाते हैं । शिकार हुए जानवरों के मांस को एक दुसरे में बांटकर खाते हैं । इस दिन आदिवासी लोग जंगल में ही रात बिताते हैं और नदी नाले के पास भोजन और विश्राम करते हैं ।

झारखंड के पर्यटन स्थल –

1 ) रांची –

रांची झारखंड की राजधानी हैं । रांची में देखने के लिए मंदिर और झरने हैं । रांची के गोंडा हिल और राॅक गार्डन में पर्यटकों को जाकर बहोत अच्छा लगता हैं । राॅक गार्डन को गोंडा हिल के चट्टानों को काटकर बनाया गया हैं जो इसकी खुबसूरती बढ़ाता हैं ।

रांची के टैगोर पहाड़ी का आकार पर्यटकों को बहोत अच्छा लगता हैं । पहाड़ी पर पत्थरों से शांतिधाम बना हैं उसको भी पर्यटक देखते हैं । रांची में हुन्डरू , जोन्हा , दसम , पांच गाघ यह झरने देखने के लिए अच्छे हैं ।

2 ) देवघर –

देवघर झारखंड में लोकप्रिय धार्मिक स्थल हैं । यह बारा ज्योतिर्लिंगों में से एक हैं । बैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग मंदिर को बैद्यनाथ धाम से भी जाना जाता हैं । यह भगवान शिव का सबसे पवित्र निवास स्थान माना जाता हैं । नंदन पहाड़ भी पर्यटकों में लोकप्रिय हैं । यह एक मनोरंजक पार्क हैं । इसमें बोटिंग का भी मजा ले सकते हैं ।

3 ) जमशेदपुर –

जमशेदपुर अपने सुंदरता के लिए लोकप्रिय हैं । जमशेदपुर को भारत का औद्योगिक शहर कहा जाता हैं । जमशेदपुर का डिमना लेक भी बहोत प्रसिद्ध हैं। जुबली पार्क भी बहोत प्रसिद्ध हैं । यहां झील , फव्वारे , मनोरंजक केंद्र , मनोरंजक पार्क , चिड़ियाघर हैं ।‌

जमशेदपुर में दलमा वन्यजीव अभयारण्य हैं । यह हाथीयों के कारण प्रसिद्ध हैं जमशेदपूर का गोलपहाडी मंदिर बहोत लोकप्रिय हैं । यह पहाड़ी पर चोटी पर स्थित है़ं । उपर से शहर का नज़ार बहोत अच्छा दिखाई देता हैं ।

4 ) हजारीबाग –

हजारीबाग में हजारीबाग वन्यजीव अभयारण्य प्रसिद्ध हैं । इसमें आप घने जंगलों में ढकी पहिडियां देख सकते हैं । विभिन्न प्रकार के जिवजंतु और पेड़ पौधे देख सकते हैं । हजारीबाग झील मैं बोट रायडिंग भी कर सकते हैं । यह भी बहोत प्रसिद्ध हैं ।

5 ) बेतला नॅशनल पार्क –

यह लातेहार और पलामू जंगलों में स्थित हैं । यहां जंगली हाथी घुमते हुए देखने को मिलते हैं । यहां जंगली हाथी , तेंदुआ , बाघ , जंगली भालू , हिरण , सांभर , बंदर , चिंकारा , पैंथर , नीलगाय , चीतल यह प्राणी देखने को मिलते हैं ।

यहां मोर , उल्लू , धनेश , कोयल जैसे पक्षी भी देखने को मिलते हैं। इसके अंदर पलामू जिल , सुगा बांध , तलाहा गर्म झरना , मिरचइया झरना , बरवाडिह का शिवमंदिर भी हैं ।

यह भी जरुर पढ़े :-

Leave a Comment