होली त्यौहार की पूरी जानकारी Holi Information In Hindi

Holi Information In Hindi होली वसंत ऋतु में मनाया जाने वाला महत्वपूर्ण त्यौहार हैं । यह त्यौहार हिंदू पंचांग के अनुसार फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता हैं । होली को होलिका , धुलेंडी , छोटी होली इन नामों से भी जाना जाता हैं । होली रंगों का और खुशी का त्यौहार हैं । यह त्यौहार हिंदू लोगों के सबसे बड़े त्यौहारों में से एक हैं । यह त्यौहार भारत के प्रसिद्ध और लोकप्रिय त्यौहारों में से एक हैं । होली भारत के अलावा अन्य देशों में भी मनाया जाता हैं ।

Holi Information In Hindi

होली त्यौहार की पूरी जानकारी Holi Information In Hindi

होली त्यौहार क्यों मनाया जाता हैं –

प्राचीन पौराणिक कथाओं के अनुसार राजा हिरण्यकश्यप की एक कथा है । इसका संबंध होली त्यौहार से हैं । हिरण्यकश्यप यह एक प्राचीन भारत में राजा था । यह एक दानव की तरह था । इसके छोटे भाई को विष्णु ने मारा था । इसका हिरण्यकश्यप बदला लेना चाहता था । सत्ता पाने के लिए राजा हिरण्यकश्यप ने वर्षों तक प्रार्थना की । अंत में उसको वरदान मिल गया ।

हिरण्यकश्यप खुद को भगवान समझने लगा और उसने लोगों को खुद को भगवान की तरह पुजने को कहा । राजा के पास एक जवान बेटा था । वह भगवान विष्णु का बड़ा भक्त था ।

उस बेटे ने कभी अपने पिता के आदेश का पालन नही किया और वो भगवान विष्णु की पूजा करता था । प्रल्हाद ने राजा हिरण्यकश्यप की पूजा करने से इनकार किया इसलिए राजा ने अपने बेटे को मारने का फैसला किया ।
हिरण्यकश्यप की बहन आग से प्रतिरक्षित थी ।

हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन होलिका से पुछा की वह प्रल्हाद के साथ चिता पर बैठे । राजा की योजना प्रल्हाद को जलाने की थी । प्रल्हाद भगवान विष्णु का पाठ कर रहा था ।

इसलिए वह सुरक्षित था और होलिका जलकर राख हो गई । इसके बाद भगवान विष्णु ने हिरण्यकश्यप का वध किया । उस वक्त से हिंदू धर्म में लोग इस दिन को बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाने लगे । तभी से लोग होली का त्यौहार मनाने लगे ।

होली का त्यौहार कैसे मनाया जाता हैं –

हर साल फाल्गून मास की पूर्णिमा के दिन होली का त्यौहार मनाया जाता हैं । यह दो दिनों का त्यौहार हैं । होली के पहले दिन को होलिका दहन और दूसरे दिन को धुलंडी कहा जाता हैं । होलिका दहन के दिन लोग गाव या शहर के खुली जगहों पर लकड़ियों को एक जगह पर रखकर उनका ढेर तैयार किया जाता हैं । इसको घास भी लगाते हैं ।

होलिका को फूल और हारों से सजाया जाता हैं और होलिका के आसपास रंगोली निकाली जाती हैं ।‌ हाथ में जल , अक्षत , फूल , सूपारी , पैसे लेकर होलिका के पास छोड़ा जाता हैं । सभी लोग होलिका की परिक्रमा करते हैं । इसके बाद होलिका दहन किया जाता हैं । प्रसाद में नारियल का गोला , गेंहू की बाली और चना बांटा जाता हैं । होलिका दहन के बाद लोग पटाखे फोड़ते हैं । होलिका दहन के समय लोग मंत्रों का उच्चारण करते हैं ।

होलिका दहन के दुसरे दिन धुलेंडी होती हैं । इसे धुरड्डी , धुरखेल , और रंगपंचमी नाम से भी जाना जाता हैं । इस दिन लोग एक दूसरे के शरीर पर रंग लगाकर होली खेलते हैं या पानी में रंग मिलाकर होली खेलते हैं । ढोल बजाकर लोग होली के गीत गाते हैं और घर – घर जाकर एक दूसरे को रंग लगाते हैं ।

बच्चे गुब्बारे में रंग भरकर एक दूसरे के शरीर पर फेकते हैं या पिचकारी से एक दूसरे के शरीर पर रंग उड़ाते हैं । कई जगह पर लोग भांग या थंडाई पिते हैं और भजिया खाते हैं । लोग नहाकर आराम करते हैं । कुछ जगह पर लोग नहाने के बाद आराम करके एक दूसरे के घर पर मिलने जाते हैं ।

किस राज्य में होली कैसे मनाई जाती हैं –

1 ) महाराष्ट्र –

महाराष्ट्र में होलिका दहन के दिन लकड़ियों को इकट्ठा किया जाता हैं । लकड़ियों को इकट्ठा करने के बाद उसको फूलों से और हारों से सजाया जाता हैं ।इसके बाद पूजा और परिक्रमा की जाती हैं ।

इसके बाद होलिका दहन किया जाता हैं । दूसरे दिन धुलैंडी के दिन पानी में रंग मिलाकर एक दूसरे के शरीर पर रंग लगाकर होली खेलते हैं ।

2 ) गोवा –

गोवा में होली त्यौहार को शिग्मो नाम से जाना जाता हैं । इस त्यौहार पर लोग रंगों से होली खेलते हैं । इस त्यौहार पर गोवा के लोग बसंत ऋतू का स्वागत करते हैं ।गोवा में इस त्यौहार को संस्कृती , खानपान और रंग के त्यौहार के रूप में जाना जाता हैं ।

इस त्यौहार पर पूरे राज्य में परेड होती हैं । इस दिन लोग नृत्य भी करते हैं ।‌ इस दिन लोग रंग-बिरंगे कपड़े पहनते हैं और रंगीन झंडे लहराते हैं । इस दिन लोग संगीत वाद्ययंत्र बजाते हैं ।

3 ) पश्चिम बंगाल –

पश्चिम बंगाल में होली को दोल जात्रा या दोल पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता हैं । पश्चिम बंगाल में पुरूष और महिला इस दिन पीले रंग के कपड़े पहनते हैं ।

महिला बालों में फूल सजाती हैं । इस दिन पश्चिम बंगाल में संगीत और नृत्य का आयोजन किया जाता हैं । इस त्यौहार पर लोग एक दूसरे को गुलाल लगाते हैं ।

4 ) उत्तरप्रदेश –

उत्तरप्रदेश में लट्ठमार होली ,लड्डूओंकी होली , फूलों की होली यह प्रसिद्ध होलीयां हैं । उत्तरप्रदेश में कृष्ण की नगरी ब्रज में ब्रज की होली मनाई जाती हैं । इसमें मथुरा , वृंदावन , बरसाना और नंदगांव आते हैं । यहां पर होली एक या दो दिन नहीं बल्की एक महिने से भी ज्यादा समय के लिए आयोजित की जाती हैं ।

इधर बसंत पंचमी से होली की शुरूआत हो जाती हैं । बसंत पंचमी से ही इधर लोग रंग उड़ाने लगते हैं । बसंत पंचमी से रंगपंचमी तक यहां होली खेली जाती हैं ।

5 ) बिहार और झारखंड –

बिहार और झारखंड में होली को फागु , फाग या फगुआ के नाम से जाना जाता हैं । होली फाल्गुन महिने में आती हैं इसलिए इधर होली को इन नामों से जाना जाता हैं । फागु का अर्थ लाल होता हैं । जिससे होली खेली जाती हैं ।

यहां पर लोग कीचड़ से भी होली खेलते हैं । इसमें लोग एक दूसरे के शरीर पर कीचड़ फेकते हैं । इधर लोग एक दूसरे के कूर्ते भी फाड़ते हैं । बिहार में इस दिन होली के गीत उनके भाषा में गाये जाते हैं । उसको फगुआ कहते हैं ।

यह लेख अवश्य पढ़े –

Leave a Comment